"मरो मेरे साथ!"

  • Dead-Psycho-Revenge
  • Price : Free
  • Published on Oct 11, 2012
  • Freelance Talents
  • Language - Hindi
This is an e-magazine. Download App & Read offline on any device.

क्या आत्मायें प्रतिशोध मे किसी विक्षिप्त की तरह बर्ताव कर सकती है? क्या आप आत्माओ को पागल कह सकते है?...शायद हाँ! बांधव गाँव मे घूम रही है एक अतृप्त, पागल आत्मा जो मरने के बाद चाहती है अपनी मौत का बदला पर जो दोषी नहीं है उनसे कैसा बदला? वो देना चाहती है एक संदेश की "कभी किसी काम मे किसी का साथ मत दो और अगर दो तो...मरो मेरे साथ!"