Mera Jeevan A-one: मेरा जीवन ए-वन - काका हाथरसी की आत्मकथा

Complimentary Offer

  • Pay via readwhere wallet and get upto 40% extra credits on wallet recharge.

Mera Jeevan A-one: मेरा जीवन ए-वन - काका हाथरसी की आत्मकथा

This is an e-magazine. Download App & Read offline on any device.

आज हिन्दी साहित्य में काका हाथरसी को कौन नहीं जानता । काका का बचपन कष्टमय जरूर था, पर इन्होंने किसी को महसूस होने नहीं दिया । बाद में चलकर इनकी हास्य व मार्मिक कविताएं सामान्य-जन तक प्रचलित हुई । आज इनके हजारों शिष्य हिन्दी के उच्च साहित्यकार हैं । जगह-जगह साहित्यिक मंचों से इनकी कविताएं बड़ी रोचकता से पड़ी व सुनी जाती हैं । काका कहने मात्र से आज इन्हीं का बोध होता है ।