संचेतना

Complimentary Offer

  • Pay via readwhere wallet and get upto 40% extra credits on wallet recharge.
संचेतना

संचेतना

  • मैं और मेरी जिम्मेदारियां
  • Price : 125.00
  • Published on Mar 25, 2013
  • Virtuous Publications
  • Language - Hindi
This is an e-magazine. Download App & Read offline on any device.

Preview

सभी भारतीयों को इस बात का गर्व रहता है कि वे उस देश के नागरिक हैं, जहां की अनेकता में एकता की संस्कृति 5000 साल पुरानी है। अनगिनत देशी-विदेशी आक्रमणकारियों ने हमारे देश की एकता और सम्प्रभुता को खंडित करने की पुरजोर कोशिश की लेकिन देशवासियों ने हमेशा ही उन्हें मुँहतोड़ जवाब दिया, लेकिन वर्तमान परिवेश बहुत तेजी से बदल रहा है और भौतिकता की अंधी दौड़ में जाने-अनजाने हम देश के प्रति अपनी जिम्मेदारियों से किनारा करने लगे हैं। देशभक्ति, धर्मनिरपेक्षता और आतंकवाद ऐसे मुद्दे हैं जो आम आदमी को देश से जोड़ते हैं। पुस्तक के भीतर के पन्नों में जहां हमने देशभक्ति के वर्तमान स्वरूप को बताने का प्रयास किया, वहीं धर्मनिरपेक्षता के मायनों को आपके सामने रखा गया है साथ विश्व समुदाय के समक्ष एक बड़ी चुनौती बन चुके आतंकवाद के विभिन्न रूपों और उनसे मुकाबला करने के तरीकों संग्रहित किया गया है। यह पुस्तक उन सभी लोगों को साथ जोड़ने का काम करेगी जो वास्तव में देश के लिए कुछ करना चाहते हैं। इस संकलन में बहुत से ऐसे विषयों को उकेरा गया है जो कि हमें आत्म-मंथन के लिए ऊर्जस्वित करेंगे।