Dafodil Jal Rahe Hain & Other Stories : डैफोडिल जल रहे हैं तथा अन्य कहानियां

Complimentary Offer

  • Pay via readwhere wallet and get upto 40% extra credits on wallet recharge.

Dafodil Jal Rahe Hain & Other Stories : डैफोडिल जल रहे हैं तथा अन्य कहानियां

This is an e-magazine. Download App & Read offline on any device.

मृदुला गर्ग का नाम हिन्दी जगत के लिए किसी परिचय का मोहताज नहीं । भारत में सर्वाधिक पड़ी जाने वाली उनकी रचनाओं में भावनाओं का उतार-चढ़ाव भी है और प्रेम की पराकाष्ठा भी । साथ ही रिश्तों को सफलतापूर्वक निभाने की शिद्दत और सब कुछ खोकर बहुत कुछ पाने का जुनून भी है । हिन्दी भाषा में उनकी 20 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनमें उपन्यास, नाटक, लघु कहानी संग्रह एवं निबंध संग्रह शामिल है । उनके उपन्यास व कहानियों को भारतीय भाषाओं के अलावा जर्मन, जापानी, अंग्रेजी चेक में भी अनुवाद किया गया है ।

उन्हें साहित्यकार सम्मान, साहित्य भूषण जैसे प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है । 'इंडिया टुडे' (हिन्दी) पत्रिका के स्थायी स्तंभ 'कटाक्ष' के लिए वह विगत तीन वर्षों से लिख रही हैं ।

'डैफोडिल जल रहे हैं तथा अन्य कहानियां' उनके कलम से निकले शब्दों में परिवेश बुनती हुई हिन्दी कहानी को निश्चित परिप्रेक्ष्य व कलात्मक आधार देती है । यह न सिर्फ भरपूर मनोरंजन करती है, वरन पाठक कहानी की भावनाओं के साथ प्रवाहित होने लगता है । मृदुला जी की कथायात्रा का विचार, विकास तथा शिल्प सभी स्तरों पर अनुभव किया जा सकता है और यही एक लेखक की सफलता है ।