Kaljugi Upnishad : कलजुगी उपनिषद्  - एक विचारोत्तेजक उपन्यास

Complimentary Offer

  • Pay via readwhere wallet and get upto 40% extra credits on wallet recharge.

Kaljugi Upnishad : कलजुगी उपनिषद् - एक विचारोत्तेजक उपन्यास

  • Mon Jul 10, 2017
  • Price : 150.00
  • Diamond Toons
  • Language - Hindi
This is an e-magazine. Download App & Read offline on any device.

“अगर आज उपनिषद् का ऋषि आ जाए तो कैसी उपनिषद् लिखेगा?” “यह कलजुग है, उपनिषद् लिखने का युग निकल गया ।” “युग कैसे निकल गया, जो विषय सतयुग, त्रेता, द्वापर में थे ही नहीं, जो कलजुग में ही उपजे हैं, उन पर विचार करने के लिए भी तो कोई उपनिषद् चाहिए, कोई ऋषि चाहिए ।” “जब जरूरत होगी, भगवान उस ऋषि को भेज देंगे ।” विदुला ने कहा ।

– इसी पुस्तक