Lafz Atke Hain... Soch Uljhi Hai...

Complimentary Offer

  • Pay via readwhere wallet and get upto 40% extra credits on wallet recharge.
Lafz Atke Hain... Soch Uljhi Hai...

Lafz Atke Hain... Soch Uljhi Hai...

This is an e-magazine. Download App & Read offline on any device.

Preview

मूलरूप से कानपुर, उत्तर प्रदेश के युवा हिन्दी लेखक भरत त्रिवेदी मुम्बई, महाराष्ट्र में कार्यरत हैं। इन्होंने कानपुर से ही स्नातक(बी.एस.सी) करने के उपरान्त दिल्ली से परास्नातक(एम.बी.ए) किया है। इसके बाद कुछ वर्षों तक गुरुग्राम, हरियाणा में कार्यरत रहे तत्पश्चात् अब मुम्बई, महाराष्ट्र में कार्यरत हैं। बचपन से ही इन्हें कविता और कहानियाँ लिखने का शौक रहा है। इनकी बहुत सी रचनाएँ विभिन्न समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, वेब पोर्टल्स में स्थान पा चुकी हैं। गोस्वामी श्री तुलसीदास कृत श्री राम चरित्र मानस इनके लेखन का प्रथम प्रेरणास्रोत रहा है। समय के साथ साहित्य में रूचि रहने के कारण श्री दिनकर जी, बाबा श्री नागार्जुन जी, श्री दुष्यन्त कुमार जी आदि साहित्य सेवियों को पढ़ते रहे हैं। इनकी दो फिल्में दर्शक वर्ग तक इसी वर्ष के अंत तक पहुँच जाएँगी। इन फिल्मों के लिए इन्होंने कहानी, पटकथा और संवाद के साथ-साथ गीत भी लिखे हैं।