Kamaleshwar Ki Kahaniyon Mein Pragatisheel Chetna

Complimentary Offer

  • Pay via readwhere wallet and get upto 40% extra credits on wallet recharge.
Kamaleshwar Ki Kahaniyon Mein Pragatisheel Chetna

Kamaleshwar Ki Kahaniyon Mein Pragatisheel Chetna

  • Wed Aug 25, 2021
  • Price : 120.00
  • Rigi Publication
  • Language - Hindi
This is an e-magazine. Download App & Read offline on any device.

Preview

कमलेश्वर की कहानियों में एक ओर सामाजिक वैषम्य पर प्रहार करने की कोशिश की गयी है तो दूसरी और मूल्य विघटन और सामाजिक विडम्बनाओं से साक्षात्कार दिखाई पड़ता है। समाज के शोषण, मानवीय संवेदना का अभाव, ग़रीबों की दुर्दशा का खुला चित्रण हुआ है। इनकी कहानियों में समाज के अंतर्विरोधों की सशक्त अभिव्यक्ति हुई है। मानव के संकट का मूल्य दरअसल व्यवस्थाजन्य है। मनुष्य स्वयं की बनाई जीवनप्रणाली का शिकार है। जब तक मौज़ूदा आर्थिक, सामाजिक और राजनितिक व्यवस्था पूरी तरह परिवर्तित नहीं होती, तब तक एक शोषण रहित मानवीय जीवन व्यवस्था संभव नहीं है।