Drastikon

Drastikon

  • दृष्टिकोण
  • Price : Free
  • OnlineGatha
  • Language - Hindi
This is an e-magazine. Download App & Read offline on any device.

कैसे ताल मिलाऊँ मैं कुछ तो मेरी मजबूरी है| कुछ मुझको जल्दी भी है। फूल बनाने की कोशिश में| कैसे कली खिलाऊँ मैं। कुछ दिल पर चोटें ज्यादा हैं| कुछ मन पहले से भरा हुआ। नई चोट दिल पर लाने की| कैसे गली बनाऊँ मैं।| कुछ तो जहन भी अलग-अलग है| कुछ मन की भी दूरी है। नजदीक रहा बेशक जीवन भर| कैसे पास बुलाऊँ मैं। कुछ तो दिल में उमंग नहीं है| कुछ मन पहले से मरा हुआ। नई चाल में आने वाला| कैसे ताश बनाऊँ मैं।| कुछ तो चुप्पी साध रखी है| कुछ मन की भी थाह नहीं है। उसका जहन बनाने वाली| कैसे बात बनाऊँ मैं। कुछ देर है सावन के आने में| कुछ धरती सारी तपी हुई है। धरती पर स्त्रोत बनाने वाली| कैसे लात बनाऊं मैं||